कलम, आज उनकी जय बोल – Ramdhari Singh Dinkar

Life Quotes
May 10, 2018
new thought (1)
आपकी सोच बदल देने वाले विचार – Motivational thoughts in hindi
October 26, 2018

कलम, आज उनकी जय बोल – Ramdhari Singh Dinkar

Ramdhari Singh Dinkar

जो अगणित लघु दीप हमारे,
तूफ़ानों में एक किनारे,
जल-जलाकर बुझ गए किसी दिन,
मांगा नहीं स्नेह मुँह खोल।
कलम, आज उनकी जय बोल।

पीकर जिनकी लाल शिखाएं,
उगल रही सौ लपट दिशाएं,
जिनके सिंहनाद से सहमी,
धरती रही अभी तक डोल।
कलम, आज उनकी जय बोल।

अंधा चकाचौंध का मारा,
क्या जाने इतिहास बेचारा,
साखी हैं उनकी महिमा के,
सूर्य, चन्द्र, भूगोल, खगोल।
कलम, आज उनकी जय बोल।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *