local-bus
Local Bus Scenario
June 27, 2017
hope
Hope
June 27, 2017

A Cup Of Coffee

coffee

coffee

सिर्फ़ एक प्याला नहीं है
वो दरिया है जस्बातो का…

कभी गम भुलाने कभी जश्‍न मनाने
वो गवाह बना है अलग अलग मौको का…

कभी हल्का कभी इसका गहरा रंग
एक चेहरा बना है ये अलग अलग मुखौटो का…

कभी सुबह की ताज़गी कभी रात का जाम
वो सहारा बना है शतरंज के सब मौहरो का…

सिर्फ़ एक प्याला नहीं है
वो दरिया है जस्बातो का…

2 Comments

  1. Sandhya says:

    Very nice
    Enjoy ur cup of coffee ☕️

  2. Hitesh Kakkar says:

    Wahh wahh 👏🏻 wo dariya hai jazbaato ka 👍🏻

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *